Connect with us

उत्तराखंड

*जनसुनवाई में 43 शिकायतों का निस्तारण, गैर हाजिर अधिकारियों से मांगा स्पष्टीकरण*

हल्द्वानी। अल्पसंख्यक आयोग को सर्किट हाउस काठगोदाम में हुई जनसुनवाई में 55 शिकायतों में से 43 शिकायतों का मौके पर निस्तारण किया गया। उपाध्यक्ष नवाब ने कहा कि आम जनमानस का उत्पीड़न कतई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। जांच में उत्पीड़न में पाये जाने पर सम्बन्धित महकमे के अधिकारी के खिलाफ आयोग द्वारा कठोर कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। जनसुनवाई में भूमि विवाद, मुआवजा, पुलिस उत्पीड़न आदि की समस्याओं का निस्तारण मौके पर दोनों पक्षों को तलब कर किया गया। जनसुनवाई में अनुपस्थित एवं जांच में सहयोग नहीं करने पर अधिकारियों से स्पष्टीकरण मांगा।

सर्किट हाउस काठगोदाम में उपाध्यक्ष अल्पसंख्यक आयोग मजहर नईम नवाब की अध्यक्षता में जनसुनवाई में सना परवीन निवासी नियाज गंज अल्मोडा ने बीए परीक्षा में बैक आने पर परीक्षा उत्तीर्ण करने के उपरान्त अंकतालिका को दो वर्षां तक कुमाऊ विश्वविद्यालय द्वारा सना परवीन को उपलब्ध नही कराई गई। सना परवीन ने आयोग में शिकायत के पश्चात आयोग द्वारा कुल सचिव को सर्किट हाउस में तलब पर अंकतालिका दो वर्ष के पश्चात उपलब्ध कराई।

जिस पर उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब ने कुल सचिव को सचेत किया कि इस प्रकार की घटना दोबारा ना हो होने पर कठोर कार्यवाही की जायेगी। जनसुनवाई मे शराफत हुसैन आजादनगर हल्द्वानी के पुत्र की करंट लगने से मृत्यु हो गई थी। शराफत हुसैन ने मुआवजा हेतु आयोग को मुआवजा हेतु सूचित किया। जिस पर आयोग के द्वारा 4 लाख की धनराशि विद्युत विभाग के द्वारा शराफत हुसैन को दिलाई। जिस पर शराफत हुसैन ने आयोग का आभार व्यक्त किया।

जनसुनवाई में इकबाल लारी निवासी महुआखेडागंज उधमसिंह नगर विद्युत विभाग द्वारा बिजली सम्बन्धी बिल व चोरी दिखाकर उत्पीडन किये जाने का था। विद्युत विभाग द्वारा आरसी पहले काटी गई तथा आंकलन 25 दिनो के बाद किया गया। उपाध्यक्ष ने दोनो पक्षों की सुनवाई के उपरान्त सम्बन्धित अधिकारियों के खिलाफ उत्पीडन का केस दर्ज करने के निर्देश दिये और इकबाल लारी की समस्या का समाधान शीघ्र करने के भी निर्देश दिये।

उपाध्यक्ष श्री नवाब ने कहा कि सरकार द्वारा अल्पसंख्यकों के लिए विभिन्न योजना चलाई जा रही है इन योजनाओं का लाभ समाज के अन्तिम छोर के व्यक्ति तक पहुचे। उन्होने कहा कुछ एनजीओ द्वारा भष्टाचार में लिप्त होने के कारण लोगों को इन योजनाओं का लाभ नही मिल पा रहा है। उन्होने कहा जो एनजीओ जांच के पश्चात भष्टचार में लिप्त पाये जाते है उनके खिलाफ कठोर कानूनी कार्यवाही की जायेगी।

इकबाल अहमद निवासी गदरपुर ने बताया कि पुलिस द्वारा उत्पीडन का केस दर्ज नही किया गया। आयोग द्वारा संज्ञान लेने के उपरान्त केस दर्ज किया गया। उपाध्यक्ष श्री नवाब ने कहा कि पुलिस महकमे की लापरवाही कतई बर्दाश्त नही की जायेगी। उन्होंने कहा भविष्य में इस प्रकार की शिकायत मिलने पर शासन स्तर से वार्ता कर सम्बन्धित पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।  जनसुनवाई में सचिव अल्पसंख्यक आयोग जेएस रावत, शमा परवीन के साथ ही अपर जिलाधिकारी शिवचरण द्विवेदी व विभिन्न महकमे के अधिकारी एवं शिकायत कर्ता उपस्थित थे।

More in उत्तराखंड