Advertisement
Advertisement
Tuesday, February 20, 2024

*दुबई में बैंक खाते और सिम कार्ड सप्लाई करने वाले एक और बड़े हवाला ऑपरेटर गिरफ्तार*

देहरादून।  उत्तराखंड एसटीएफ की साइबर क्राइम सेल को बड़ी सफलता मिली है। टीम ने दुबई में बैंक खाते और सिम कार्ड सप्लाई करने वाले एक और बड़े हवाला ऑपरेटर को एसटीएफ/साइबर थाने ने गिरफ्तार किया है।

देहरादून निवासी शिकायतकर्ता को अज्ञात व्यक्ति द्वारा कॉल कर स्वंय को कोरियर कम्पनी का कर्मचारी बताकर शिकायतकर्ता के नाम से ड्रग्स से भरा एक कोरियर कस्टम डिपार्टमैन्ट द्वारा पकड़ा जाना बताया गया। इस मामले को निपटाने के नाम पर षडयन्त्र के तहत शिकायतकर्ता से विभिन्न लेन देन के माध्यम से धोखाधड़ी से कुल 11.84 लाख रूपये जमा करवा लिए गए। इस पर साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन देहरादून पर मुकदमा दर्ज किया गया। गठित टीम ने अथक प्रयासों से अभियुक्त सागर सिंह पुत्र सतवीर सिंह निवासी म0नं0 5029, गली नं0 01, निकल विश्वकर्मा मन्दिर, शिव कॉलोनी थाना रामनगर करनाल हरियाणा, उम्र 36 वर्ष  को करनाल हरियाणा से गिरफ्तार किया गया।

अपराध का तरीकाः-
अभियुक्तगणों द्वारा पीड़ितों को कॉल कर स्वंय को कोरियर कम्पनी FEDEX का कर्मचारी तथा साईबर क्राईम डिपार्टमैन्ट के अधिकारी बनकर पाड़ित के नाम का कोरियर कस्टम डिपार्टमैन्ट द्वारा पकड़े जाने जिसमें अवैध सामग्री विदेश भेजे जाने की बात कहते हुए Cyber Crime डिपार्टमैन्ट मुम्बई का परिदृष्य बनाकर वीडियो कॉल के माध्यम से इन्वैस्टिगेशन करना तथा खाता वैरिफिकेशन व केस को निपटाने के नाम पर षडयन्त्र के तहत धोखाधड़ी की जाती है तथा धोखाधडी से प्राप्त धनराशि को विभिन्न बैक खातो में प्राप्त कर उक्त धनराशि का प्रयोग करते हैं। अभियुक्तगण द्वारा उक्त कार्य हेतु फर्जी सिम, आईडी कार्ड का प्रयोग कर अपराध कारित किया जाता है। अभियुक्त द्वारा विभिन्न मोबाईल हैण्डसेट, सिम कार्ड व फर्जी बैंक खातों का प्रयोग किया जाता है। कुछ पीडितों से एक मोबाईल फोन, सिम कार्ड व बैंक खाते का प्रयोग कर धोखाधड़ी करने के बाद इनके द्वारा नये सिम, मोबाईल हैण्डसैट व बैंक खातों का प्रयोग किया जाता है।

इस पूरी प्रक्रिया के लिए अभियुक्त स्वयं दुबई जाकर वहाँ पर साइबर अपराध से संबंधित एक आपराधिक किट देता है जिसमें भारत के विभिन्न बैंक खाते जो कि करेंट बैंक अकाउंट  एसएमएस अलर्ट नंबर आदि दुबई में में दिए जाते हैं | अभियुक्त द्वारा बताया गया कि उसके द्वारा भारतीय रुपए को क्रिप्टोकरेंसी यू एस डी टी में दुबई में परिवर्तित किया जाता है और इस संबंध में उनके गिरोह की एक विस्तृत बैठक दुबई में आयोजित की जाती है। गिरफ्तार अभियुक्त से संबंधित विभिन्न बैंक खातों की लेनदेन कि जानकारी एकत्रित की गई तो पाया गया की अनुमानित 11,11,04,56 (11 करोड़) अभियुक्त द्वारा विभिन्न पीड़ितों से पूरे भारत में ठगी के बाद धोखाधड़ी से लिए गए हैं। अभियुक्त के ऊपर 167 मुकदमे एवं 2977 आपराधिक लिंकेज जो देश के सभी राज्यों में एवं केंद्र शासित प्रदेशों में मिले। अभियुक्त के ऊपर उत्तर प्रदेश 34 अभियोग, राजस्थान 01, तेलंगाना 67, महाराष्ट्र 02, दिल्ली 12, गुजरात 03, बिहार 04, हरियाणा 08, तमिलनाडु 14, पश्चिम बंगाल 03, कर्नाटक 02, आंध्र प्रदेश 04, उत्तराखंड 02, छत्तीसगढ़ 04, असम 03, चंडीगढ़ 01, गोवा 01, दादर और नगर हवेली 02 आदि मिलाकर के कुल 167 अभियोग मैं अभियुक्त वांछित है |उत्तराखण्ड राज्य में ही 48 मामलों में अभियुक्त की संलिप्तता पाई गई है |

Latest news

Related news

- Advertisement -
Advertisement

You cannot copy content of this page