Advertisement
Advertisement
Sunday, February 18, 2024

*एसपीसिटी के निर्देश- सर्दियों में चोरी की संभावनाओं के मद्देनजर क्षेत्र में बढ़ाएं गश्त*

हल्द्वानी। एस.पी. सिटी हरबंस सिंह ने मुखानी थाने के विवेचकों को लंबित अ‌भियोगों के जल्द निस्तारण की हिदायत दी है। साथ ही उन्होंने अपराध नियंत्रण के लिए भी प्रभावी कदम उठाने और गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

मुखानी थाने के विवेचकों का आदेश कक्ष लेते हुए विवेचना के निस्तारण में देरी पर एसपीसिटी ने गहरी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि थाने में चोरी/नकबजनी से संबंधित अधिकांश अभियोग लंबित चल रहे हैं, अभियुक्त गणों की तलाश कर शत प्रतिशत माल बरामद करते हुए अभियोग का शीघ्र निस्तारण करें। साथ ही विवेचकों द्वारा जिन विवेचनाओं में कार्यवाही पूर्ण की जा चुकी है, उनमें 3 दिवस में आरोप पत्र दाखिल करें। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा  3 साल से अधिक और पार्ट पेंडिंग/पुनर्विवेचना विवेचना को अकारण लंबित रखने के कारण उन विवेचनाओं को तत्काल निस्तारण करने के निर्देश दिए गए हैं। लिहाजा उन विवेचनाओं को एक सप्ताह के अंतर्गत निस्तारण कर कृत कार्रवाई से अवगत कराएं।

एसपीसिटी ने कहा कि सर्दियों के मौसम में चोरी की घटनाओं की संभावना बढ़ जाती है तथा थाना मुखानी क्षेत्र में इस प्रकार की घटनाएं बढ़ने की संभावनाएं होती हैं। जिस कारण रात्रिगश्त को अच्छे से ब्रीफ करते हुए घटनाओं पर अंकुश लगाने के निर्देश दिए गए। कहा कि जो शिकायती प्रार्थना पत्र एक माह से अधिक समय से लंबित है उनका तत्काल सेवा अधिकार अधिनियम के अंतर्गत दिए प्रावधानों के अनुसार कार्यवाही करें। थाना क्षेत्र में रह रहे बाहरी व्यक्तियों पर सतर्क दृष्टि रखते हुए उनका शतप्रतिशत सत्यापन करें। साथ ही जिन विवेचनाओं के निस्तारण हेतु एक सप्ताह का समय दिया गया है उन विवेचनाओं का तत्काल एक सप्ताह के अंतर्गत निस्तारण करें। यदि किसी अभियोग में अभियुक्त की गिरफ्तारी/ तलाश हेतु अन्य राज्यों में दबिश जानी है तो उसमें नियमानुसार अनुमति प्राप्त कर अभियुक्त की गिरफ्तारी सुनिश्चित करें। आदेश कक्ष के दौरान दिए गए समस्त निर्देशों का पालन कर लंबित विवेचनाओं का एक सप्ताह के अंतर्गत विधिक निस्तारण करना सुनिश्चित करें। आदेश कक्ष के दौरान थानाध्यक्ष प्रमोद पाठक समेत अन्य उपनिरीक्षक/विवेचक उपस्थित रहे।

Latest news

Related news

- Advertisement -
Advertisement

You cannot copy content of this page